+91 9997587999,9997496999,9997683999,9997568999 SHRI SIDDH SHANI MANDIR MUNDESI,MATHURA

Home

श्री सिद्ध शनि मंदिर  व् भोजन बैंक मथुरा आपका  हार्दिक स्वागत करता है

previous arrow
next arrow
29572328_2057621080933864_2700614060693694605_n
Slider
यह शनि मंदिर भारत में स्थित दूसरा ऐसा मंदिर है जहाँ भगवान शनिदेव एक शिला के रूप में विराजमान है  यहाँ शनि देव हैं, लेकिन मंदिर नहीं है,वृक्ष है लेकिन छाया नहीं।  शनि भगवान की स्वयंभू मूर्ति काले रंग की है। 5 फुट 9 इंच ऊँची व 1 फुट 6 इंच चौड़ी यह मूर्ति संगमरमर के एक चबूतरे पर धूप में ही विराजमान है। यहाँ शनिदेव अष्ट प्रहर धूप हो, आँधी हो, तूफान हो या जाड़ा हो, सभी ऋतुओं में बिना छत्र धारण किए खड़े हैं। राजनेता व प्रभावशाली वर्गों के लोग यहाँ नियमित रूप से एवं साधारण भक्त हजारों की संख्या में देव दर्शनार्थ प्रतिदिन आते हैं।
हिन्दू धर्म में कहते हैं कि कोबरा का काटा और शनि का मारा पानी नहीं माँगता। शुभ दृष्टि जब इसकी होती है, तो रंक भी राजा बन जाता है। देवता, असुर, मनुष्य, सिद्ध, विद्याधर और नाग ये सब इसकी अशुभ दृष्टि पड़ने पर समूल नष्ट हो जाते हैं। परंतु यह स्मरण रखना चाहिए कि यह ग्रह मूलतः आध्यात्मिक ग्रह है।
महर्षि पाराशर ने कहा कि शनि  जिस अवस्था में होगा, उसके अनुरूप फल प्रदान करेगा। जैसे प्रचंड अग्नि सोने को तपाकर कुंदन बना देती है, वैसे ही शनि भी विभिन्न परिस्थितियों के ताप में तपाकर मनुष्य को उन्नति पथ पर बढ़ने की सामर्थ्य एवं लक्ष्य प्राप्ति के साधन उपलब्ध कराता है।
नवग्रहों में शनि को सर्वश्रेष्ठ इसलिए कहा जाता है, क्योंकि यह एक राशि पर सबसे ज्यादा समय तक विराजमान रहता है। श्री शनि देवता अत्यंत जाज्वल्यमान और जागृत देवता हैं।
आजकल शनि देव को मानने के लिए प्रत्येक वर्ग के लोग इनके दरबार में नियमित हाजिरी दे रहे हैं।

भोजन बैंक

previous arrow
next arrow
IMG-20180222-WA0012
Slider

 

भोजन बैंक ,श्री सिद्ध शनि मंदिर सेवा न्यास के द्वारा भारत में पहली बार किसी संत के द्वारा एक ऐसी बैंक खोली है जिसमे गरीबों,असहायों ,दिव्यांगो  को भोजन निशुल्क वितरित किया जाता है |यह भोजन श्री सिद्ध शनि मंदिर सेवा न्यास आश्रम में तैयार होकर प्रतिदिन मथुरा के ऐसे स्थानों में वितरित किया जाता है जहाँ पर भोजन की आवश्यकता है | आप भी इस भोजन बैंक में सदस्य बनकर अपना जीवन धन्य कर सकते है |

 

Loading...